fbpx

राजनीति राजनीती

भूपेश सरकार ने जन-जन की सुरक्षा के किए ठोस उपाय, तभी केन्द्र ने रमन सिंह की सुरक्षा घटाई – कांग्रेस

रायपुर : दोनों पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और अजीत जोगी के बयान पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने आरोप लगाया है कि कहा कि दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों ने मिलकर विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ साजिश रची थी। विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार से दोनों पूर्व मुख्यमंत्री बौखला गए हैं। हार की बौखलाहट में अपना संतुलन खोकर अनर्गल तथ्यहीन बयानबाजी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने एक साल में जन-जन की सुरक्षा के ठोस उपाय किये, तभी तो मोदी सरकार ने 15 साल तक कई लेयर के सुरक्षा घेरे में घिरे रमन सिंह की सुरक्षा में कटौती की।

कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि 15 साल तक डॉ रमन सिंह खुद सुरक्षा घेरे में रहते थे। बस्तर से लेकर सरगुजा तक, रायगढ़ से लेकर राजनांदगांव तक आम जनता खुद की सुरक्षा को लेकर चिंतित रहते थे। दिन दहाड़े बैंक में उठाईगिरी, व्यापरियों से लूटपाट, अपहरण, हत्या की घटनाए होती थी। 15 साल तक किसान, व्यापारी, मजदूर, गृहणी, बेटियां घर बाहर हर जगह असुरक्षित महसूस किया करते थे। बाजार, मार्निग वॉक जाने से महिला घबराती थी। भाजपा के नेता थानों में घुसकर मारपीट करते थे। तखतपुर, मुंगेली में भाजपा के नेताओं ने थानेदार से मारपीट की और भाजपा सरकार का समर्थन था।

भूपेश सरकार ने जन-जन की सुरक्षा के किए ठोस उपाय, तभी केन्द्र ने रमन सिंह की सुरक्षा घटाई : धनंजय 

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता ने कहा कि नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा और भाजपा की बी टीम को जनता ने नकार दिया और ग्राम पंचायत, जिला पंचायत चुनाव में भी करारी हार दोनों दलो की होने वाली है। राज्य के दोनों पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, अजीत जोगी मुद्दाविहीन हो चुके है। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने तो पूर्व सरकार के 15 साल में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बरती गई कोताही को लेकर अपनी बात रखी है। बीते 15 साल के दौरान पुलिस बल की संख्या बढ़ाई जाती, सुरक्षा बल की कमी नहीं होती,पुलिस का आधुनिकीकरण किया जाता, अपराधियों को भाजपा के सदस्य बनाने के बजाये जेल में डाल जाता तो राज्य की कानून व्यवस्था मजबूत होती।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि एक साल में सरकार ने जो कानून व्यवस्था को मजबूत करने उपाय किए हैं । उसका ही नतीजा है अपराध के बाद अपराधी तत्काल पकड़े जा रहे हैं। अपराधियों पर हो रही कड़ाई से कार्यवाहियों के कारण आपराधिक किस्म के लोगों के मन मे डर उतपन्न हुआ है। आपराधिक घटनाओं पर पूर्व सरकार के अपेक्षा कमी आई है। 2018 (1 जनवरी से 31 अक्टूबर) की तुलना में 2019 (1 जनवरी से 31 अक्टूबर) में अपराधों में भारी कमी आई है। जो अपराध हुए भी हैं, छत्तीसगढ़ पुलिस ने उनको ढूंढ निकाला है। भाजपा शासन काल में तो प्रार्थी मारा-मारा फिरता था, परंतु एफआईआर ही दर्ज नहीं होती थी। पिछले वर्ष की तुलना में हत्या : 4 प्रतिशत की कमी, हत्या का प्रयास : 8 प्रतिशत की कमी, डकैती : 36 प्रतिशत की कमी, लूट : 1 प्रतिशत की कमी, धोखाधड़ी : 8 प्रतिशत की कमी है। भाजपा नेता पहले अपने गिरेबान में झांके, फिर कांग्रेस पर आरोप लगाए।

Add Comment

Click here to post a comment

विज्ञापन

ad 3
slider 2
slider
ad 3
slider 2
slider

विज्ञापन

रायपुर सराफा बाजार

विज्ञापन

मुद्रा बाजार अपडेट

विज्ञापन