fbpx

छत्तीसगढ़ रायपुर

नेशनल कम्पनी ला ट्रिब्यूनल एचबीएन निवेशकों की राशि का शीघ्र भुगतान करेगा-नरेडी

रायपुर, 11 जुलाई । आल एचबीएन इन्वेस्टर ट्रस्ट के ट्रस्टी संतोष निर्मलकर, गणेश नरेडी एवं जेडी देवांगन ने प्रेसक्लब रायपुर में आयोजित पत्रकारवार्ता में बताया कि नेशनल कंपनी ला ट्रिब्यूनल द्वारा एचबीएन के निवेशकों द्वारा प्रस्तुत याचिका का निराकरण करते हुए एचबीएन कंपनी की समस्त संपत्तियां कुर्क कर निवेशकों की राशि वापस करने का फैसला दिया है। वार्ताकारों ने बताया कि छत्तीसगढ़ में निवेशकों का नगद राशि में 11 सौं करोड़ रूपए एवं भूमि में 83 करोड़ रूपए की निवेशित राशि फंसी हुई है।

संस्था की अन्य कंपनियों में सांईं प्रसाद प्रापर्टीज लिमिटेड, विनायक होम्स एवं रियल इस्टेट लिमिटेड, सांई प्रकाश प्रापर्टीज लिमिटेड, श्रीराम रियल इस्टेट, सुविधा फार्मिंग, सनसाईन हाईटेक प्रा.लि., जेएसव्ही डेवलपर्स इंडिया लिमिटेड, जी लाईफ, बीएन गोल्ड रियल इस्टेट लि., अल केमिस्ट टाउनशीप, एचव्हीएन रियल इस्टेट, एचबीएन फुल लिमिटेड, सनसाईन इन्फ्रा बिल्ड कार्पाेरेशन लिमिटेड, यश ड्रीम रियल इस्टेट एवं अनमोल एग्रो हर्बल सहित 15 कंपनियों ने चिटफंड के जरिए ग्रामीण क्षेत्रों में लोक लुभावन वायदों के साथ निवेशकों को ठगा। उक्त मामले में वार्ताकारों के अनुसार एचबीएन कंपनी की संपत्तियां वर्तमान समय में सेबी के पास अटैच है। सेबी उक्त निर्णय के परिपालन में सुप्रीम कोर्ट से मार्गदर्शन ले रही है।

वहीं इनकम टैक्स विभाग द्वारा भी कंपनी की संपत्ति को अटैच किया गया है। ट्रिब्यूनल द्वारा दिए गए निर्णय के परिपे्रक्ष्य में उनके द्वारा नियुक्त आरपी (रिजुलेशन प्रोफेशन) को वापस की गई है। सेबी की पहल का इंतजार है।
पत्रकारवार्ता में एचबीएन कंपनी में निवेशकों की तरफ से याचिका दायर करने वाले दिल्ली के अधिवक्ता संयम गोयल ने पत्रकारवार्ता में बताया कि उक्त मामले में सेबी और इनकम टैक्स के पास कंपनी की राजसात संपत्ति को बेचकर ही निवेशकों का पैसा अधिकतम दो वर्ष की अवधि में वापस होने की संभावना है।

उन्होंने निवेश से संबंधित जानकारी देते हुए बताया कि आम तौर पर कंपनी द्वारा किए जा रहे व्यापार में निवेश किया जाता है जबकि एचबीएन एवं उसकी सहयोगी कंपनियों द्वारा केवल निवेशकों से पैसे लिए गए हैं व्यापार नहीं हुआ है। इसलिए कंपनी द्वारा अपने को अगर दिवालिया घोषित किया जाता है तो सर्वाेच्च न्यायालय द्वारा कंपनी द्वारा प्रस्तुत आवेदन पर यथायोग्य विचार कर ही निवेशकों के पक्ष में निर्णय दिए जाने की संभावना है। पत्रकारवार्ता में प्रदेश के निवेशकों सैकड़ों की संख्या में उपस्थित थे।

Add Comment

Click here to post a comment

विज्ञापन

slider 2
slider
slider 2
slider

रायपुर सराफा बाजार

मुद्रा बाजार अपडेट

विज्ञापन