fbpx
धर्म धार्मिक कार्यक्रम राशिफल

वट सावित्री पर सुहागिनें पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखेंगी 3 को

रायपुर, 01 जून। प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी जेठ मास की सोमवती अमावस की तिथि में सुहागिन महिलाएं वट वृक्ष को रोली से बांधकर विधिवत निर्जला व्रत रख उपवास 3 जून को करेंगी। ज्ञातव्य है कि वट सावित्री का व्रत के पीछे सदियों पुरानी एक पौराणिक कथा है। जिसके अनुसार पतिव्रता सावित्री ने अपने पति सत्यवान की अल्प आयु में सोमवती अमावस के दिन भरी दोपहरी में वट वृक्ष के छाया के नीचे में बिलख-बिलखकर रोते हुए यमराज से अपने पति के प्राण वापस करने की प्रार्थना की थी।

वट सावित्री पर सुहागिनें पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखेंगी 3 कोपतिव्रता नारी के आंसूओं से पिघलकर दुखी: हृद्य को देखकर यमराज को सत्यवान के प्राण वापस लौटाने पड़े। तब से यह व्रत सुहागिन महिलाओं द्वारा अपने पति की दीर्घायु के लिए प्रति वर्ष सोमवती अमावस के दिन जेठ माह में किया जाता है। इस दिन सुबह से ही भक्तों द्वारा आसपास की नदियों एवं सरोवरों में ब्रम्हमूहूर्त में स्नान कर भगवान भोलेनाथ की विधिवत पूजा की जाती है।

वट सावित्री पर सुहागिनें पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखेंगी 3 कोतत्पश्चात दोपहर 12 बजे कडक़ड़ाती जेठ की धूप में सुहागिन महिलाएं विधिवत श्रंगार कर पांव में आलता लगाकर नंगे पांव वट वृक्ष की पूजा कर दिनभर निर्जला उपवास करती है। पं. विनीत शर्मा के अनुसार वट सावित्री का व्रत श्रद्धापूर्वक करने से अक्षय सुखों की प्राप्ति होती है।

Add Comment

Click here to post a comment

विज्ञापन

रायपुर सराफा बाजार

मुद्रा बाजार अपडेट